Friday , July 19 2019
Breaking News
Home / राजनीति / कांग्रेस को नया राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल गया, अगले महीने इस्तीफा देंगे राहुल गांधी….!!

कांग्रेस को नया राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल गया, अगले महीने इस्तीफा देंगे राहुल गांधी….!!

नई दिल्ली  – राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के सीनियर नेता अशोक गहलोत जल्द राहुल गांधी की जगह पार्टी के नए अध्यक्ष बन सकते हैं।  राष्ट्रबोध डॉट कॉम को एक न्यूज़ एजेंसी से मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस ने इस बारे में मन बना लिया है और अशोक गहलोत को इसके लिए तैयार रहने को भी कहा है। हालांकि इस बारे में तस्वीर अभी साफ नहीं है कि अशोक गहलोत अकेले कांग्रेस अध्यक्ष होंगे या दो-तीन और नेताओं को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जाएगा, लेकिन इतना तय है कि अगले कुछ दिनों में कांग्रेस को नया अध्यक्ष मिलने वाला है, जो गांधी परिवार से नहीं होगा।

गहलोत ने बुधवार,19 जून को राहुल को जन्मदिन की बधाई देते हुए देश व जनहित में उनसे पार्टी प्रमुख बने रहने का आग्रह किया। लेकिन सूत्रों के अनुसार, मनाने की तमाम कोशिशों के बावजूद राहुल गांधी नहीं माने और उन्होंने साफ कर दिया कि जब तक पार्टी नया नेतृत्व नहीं चुनती है, तब तक नई शुरुआत मुमकिन नहीं है।

राहुल ने यह भी साफ कर दिया है कि उनके बदले प्रियंका गांधी के नाम पर भी विचार नहीं होगा। दरअसल नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली बीजेपी ने वंशवाद के मुद्दे पर कांग्रेस को लगातार घेरा है। ऐसे में राहुल गांधी के हटने और कांग्रेस के किसी सीनियर नेता को अध्यक्ष बनाने से यह मुद्दा हमेशा के लिए समाप्त हो जाएगा।

इसलिए गहलोत के पक्ष में बनी बात
* संगठन चलाने का पुराना अनुभव रहा है। साल 2017 में गुजरात असेंबली चुनावों में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन के पीछे उन्हीं का प्रयास माना गया।

* पिछड़ी जाति से आते हैं। कांग्रेस को अगर खोया जनाधार वापस पाना है, तो इसी समुदाय से वोट फिर हासिल करने की बड़ी चुनौती है।

* सोनिया और राहुल गांधी से बेहतर रिश्ते हैं। इसके अलावा कांग्रेस के अन्य नेताओं से भी उनके समीकरण ठीक हैं।

तो सचिन होंगे राजस्थान के पायलट
सूत्रों के अनुसार, अशोक गहलोत को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने के बाद राजस्थान की कमान उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को दी जा सकती है। हाल के समय में गहलोत और पायलट गुट के बीच विवाद की कई खबरें आई हैं। पार्टी को लगता है कि गहलोत के अध्यक्ष बनने से यह समस्या भी दूर हो जाएगी।

अशोक गहलोत ही पहली पसंद क्यों ?

पिछले एक साल में सितारे बुलंद

पिछले एक साल में कांग्रेस में अगर किसी नेता का कद इतना अधिक बढ़ा है, तो वो सिर्फ गहलोत ही हैं. उनके सितारे बुलंदी पर हैं. पहले राहुल गांधी ने उन्हें गुजरात की कमान सौंपी. यहां कांग्रेस चुनाव जरूर हारी. लेकिन गहलोत की रणनीति ने बीजेपी के हाथ-पैर जरूर फुला दिए. गुजरात के विधानसभा चुनाव में गहलोत ने पार्टी के लिए शानदार काम किया और दो दशक से सत्ता से बाहर कांग्रेस का एक तरह से प्रदेश में कमबैक कराया. इसके बाद गहलोत ने उन सभी जगहों पर कांग्रेस की ओर से मोर्चा थामा, जहां पर बीजेपी से सीधा मुकाबला था और उनके जरिए पार्टी ने हर वार का डटकर सामना किया !


40 साल से ज्यादा लंबा राजनीतिक करियर
अशोक गहलोत तीन बार राजस्थान के मुख्यमंत्री बन चुके हैं. 2018 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने बीजेपी को सत्ता से बाहर करने में अहम भूमिका भी निभाई थी. गहलोत का राजनीतिक करियर 40 साल से भी ज्यादा का है. उन्होंने उतार-चढ़ाव दोनों देखे हैं. उनके इस अनुभव का फायदा पार्टी को राजस्थान विधानसभा चुनाव में भी हुआ और अगर वो कांग्रेस अध्यक्ष बनते हैं, तो पार्टी को आगे भी इसका फायदा मिल सकता है !

साफ छवि

गहलोत को साफ छवि वाले नेताओं के तौर पर देखा जाता है. इतने साल से राजनीति करते आ रहे गहलोत की छवि पर शायद ही कोई गहरे दाग-धब्बे होंगे. साथ ही विवादों से भी दूर रहे हैं. गहलोत काफी लो प्रोफाइल रहते हैं, लेकिन कड़े कदम उठाने से पीछे नहीं हटते. इसके कई उदाहरण हैं. जैसे- 2012 में आसाराम बापू को रेप के आरोप लगने पर गिरफ्तार करना हो या 2003 में विहिप के पूर्व तेजतर्रार नेता प्रवीण तोगड़िया को जेल में डालना. अगर उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया तो उनकी इस क्लीन इमेज का फायदा कांग्रेस को जरूर मिल सकता है !

राहुल और कांग्रेस को है उनपर भरोसा
अशोक गहलोत की गिनती कांग्रेस के वरिष्ठ और वफादार नेताओं में होती है. वो काफी लंबे समय से पार्टी के लिए पूरी लगन से काम करते आ रहे हैं. अशोक गहलोत कांग्रेस की तीन अलग-अलग केंद्र सरकारों में मंत्री रहे. वे इंदिरा के साथ ही राजीव गांधी की कैबिनेट के भी सदस्‍य थे. बाद में नरसिम्‍हा राव सरकार में भी वे मंत्री बने. हालांकि, तांत्रिक चंद्रास्‍वामी से दूरी के चलते उन्‍हें नरसिम्‍हाराव सरकार से इस्‍तीफा देना पड़ा था. अब वे गांधी परिवार की तीसरी पीढ़ी यानी राहुल गांधी के साथ मिलकर सियासत के नए दांवपेंच चल रहे हैं !

Check Also

Congress resident, कांग्रेस को नया राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल गया, अगले महीने इस्तीफा देंगे राहुल गांधी….!!

सिद्धू का इस्तीफाः पुराने पैंतरे से नई इबारत लिखने की प्रयास…..!!

नई दिल्ली –  मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की ओर से बीते 6 जून को मंत्रिमंडल …

Leave a Reply

Your email address will not be published.