Friday , June 21 2019
Breaking News
Home / राजनीति / कमलनाथ सरकार गिराने के लिए दिग्गी और सिंधिया के समर्थकों ने मांगी मदद…..!!

कमलनाथ सरकार गिराने के लिए दिग्गी और सिंधिया के समर्थकों ने मांगी मदद…..!!

इंदौर – बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने दावा किया है कि दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुरेश पचौरी सरीखे वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के समर्थकों ने उनसे मिलकर मध्य प्रदेश की कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार गिराने में मदद मांगी. विजयवर्गीय ने कल (मंगलवार को) बीजेपी के एक कार्यक्रम में इस आशय का बयान दिया कि दिग्विजय, सिंधिया और पचौरी के समर्थक उनके पास आते हैं और कमलनाथ सरकार को गिराने के लिये उनसे मदद मांगते हैं !

बीजेपी महासचिव ने हालांकि अपने इस दावे के समर्थन में दिग्विजय, सिंधिया और पचौरी के तथाकथित समर्थकों का नाम नहीं बताया. लेकिन कहा, “मैंने उनसे (दिग्विजय, सिंधिया और पचौरी के तथाकथित समर्थक) कहा कि अभी रुको. भगवान कृष्ण ने जरासंध को 99 बार माफ किया था. अभी हम माफ कर रहे हैं. जिस दिन 100 (अपराध) पूरे हो जायेंगे, कमलनाथ को सड़कनाथ बना दिया जायेगा.”

कमलनाथ, सूबे के मुख्यमंत्री होने के साथ प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष भी हैं. प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कमलनाथ सरकार के बारे में विजयवर्गीय के दावे को उनकी कल्पना की उड़ान बताया. सलूजा ने बुधवार को कहा, “विजयवर्गीय खुद के महिमामंडन और मीडिया में जगह की जुगाड़ के लिये अक्सर उल-जुलूल बयानबाजी करते रहते हैं. दरअसल, वह कल्पना लोक में जी रहे हैं. कमलनाथ सरकार को लेकर उनके हास्यास्पद दावे में कोई सचाई नहीं है.”

कांग्रेस नेता ने बीजेपी महासचिव के पौराणिक ज्ञान पर भी सवाल उठाये. सलूजा ने कहा, “खुद को धार्मिक व्यक्ति बताने वाले विजयवर्गीय को पौराणिक इतिहास का ज्ञान तक नहीं है. उन्होंने अपनी अनर्गल बयानबाजी में शिशुपाल की जगह जरासंध का जिक्र करते हुए कह दिया कि भगवान कृष्ण ने जरासंध को 99 बार माफ किया था.” हिंदुओं की पौराणिक कथाओं के मुताबिक भगवान कृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से शिशुपाल के वध से पहले उसके 100 अपराध क्षमा किये थे !

Check Also

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा पर तीन राज्यों के चुनाव का जिम्मा….!!

नई दिल्ली – भाजपा में संगठन की पहली सीढ़ी से लेकर कार्यकारी अध्यक्ष तक पहुंचे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *