Friday , July 19 2019
Breaking News
Home / देश-विदेश / नांदेड़ की महिला को तलाक से पहले बच्चा चाहिए था, कोर्ट मान गई पर पति ने प्लान पर पानी फेरा….!!

नांदेड़ की महिला को तलाक से पहले बच्चा चाहिए था, कोर्ट मान गई पर पति ने प्लान पर पानी फेरा….!!

महाराष्ट्र में एक जगह है. नांदेड़. यहां एक महिला है. कोर्ट में उसका एक केस चल रहा है. तलाक का. पर अब वो मां बनना चाहती है. हालांकि उसका पहले से एक बच्चा है. पर फिर भी वो दूसरा बच्चा चाहती है. अपने पति से. इसके लिए उसने फैमिली कोर्ट में याचिका भी दायर की है !

महिला का कहना है कि ऐज खत्म होने के पहले ही उसे एक बार दोबारा मां बनना है. वो अपने पति के साथ शादीशुदा रिलेशन में या फिर इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) यानी टेस्ट ट्यूब बेबी के जरिए मां बनने के लिए राजी है. उसे कोई आपत्ति नहीं है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, फैमली कोर्ट ने व्यक्तिगत स्वायत्तता पर अंतरराष्ट्रीय कानूनों और संधियों का हवाला दिया और महिला के ‘बच्चा पैदा करने के अधिकार’ का समर्थन किया है. और इसे महिला का मूलभूत अधिकार बताया है. कोर्ट ने 24 जून यानी कल, पति और पत्नी दोनों को मैरिज काउंसलर के पास जाने और वहां पर सलाह देने का आदेश दिया है. इसके अलावा एक महीने के अंदर IVF स्पेशलिस्ट से मिलने का भी निर्देश दिया है ! वहीं, पति ने महिला की दायर याचिका को इललीगल बताया है. पति का कहना है कि ये याचिका एक झांसा है और सामाजिक मानकों के खिलाफ है !

नांदेड़ कोर्ट, जहां महिला ने दूसरे बच्चे के लिए याचिका दायर की है.

नांदेड़ फैमली कोर्ट की जज स्वाति चौहान ने कहा कि IVF के तहत बच्चा पैदा करना कोई इललीगल काम नहीं है. न ही सामाजिक मानकों का उल्लंघन है. सामने वाला इस तकनीकि पर अपनी सहमति नहीं दे सकता. उसके पास जब तक कोई वाजिक कारण न हो. उसे एक सॉलिड रीजन बताना होगा, जिसको कोर्ट मान सके. क्योंकि अगर कोई कारण नहीं पाया गया तो उसे कानूनी और तार्किक परिणामों का सामना करना पड़ सकता है.

जज स्वाति ने कहा कि बच्चा पैदा करने में पति की सहमति जरूरी है. क्योंकि सिर्फ वंश बढ़ाने या बच्चे को पैदा करने वाली बात को कानूनी प्रक्रिया से हल नहीं किया जा सकता है. इसे डॉक्टर की मदद से ही हल करना होगा. इसलिए IVF स्पेशलिस्ट डॉक्टर से मिलकर दोनों को जांच करवानी है. जिसकी कॉन्फिडेंशियल रिपोर्ट डॉक्टर कोर्ट को सौंपेगा !

महिला को दूसरा बच्चा अपने बुढ़ापे के सहारे के लिए चाहिए. पति और पत्नी दोनों ही वर्किंग हैं, काम करते हैं. मुंबई में रहते हैं और पति ने महिला पर क्रूरता का आरोप लगाकर 2017 में तलाक का केस फाइल किया था. मामला अभी पेंडिंग है !

Check Also

, नांदेड़ की महिला को तलाक से पहले बच्चा चाहिए था, कोर्ट मान गई पर पति ने प्लान पर पानी फेरा….!!

मायावती के भाई की 400 करोड़ रुपए की बेनामी संपत्ति जब्त, कालेधन के विरुद्ध आयकर की बड़ी कर्रवाई….!!

जिन दिनों 2007 से 2012 तक उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती थी इसी दौरान उनके छोटे …

Leave a Reply

Your email address will not be published.