Wednesday , June 26 2019
Breaking News
Home / जीवन-शैली / World cycle day 2019: आपकी फिटनेस को रफ्तार देगी साइकिल, जिम की भी नहीं पड़ेगी जरूरत….!!

World cycle day 2019: आपकी फिटनेस को रफ्तार देगी साइकिल, जिम की भी नहीं पड़ेगी जरूरत….!!

नई दिल्‍ली –  एक समय था जब बाइक व कार आम लोगों की पहुंच से दूर थी तो ज्यादातर लोग साइकिल पर सफर करते थे। स्कूली बच्चे भी साइकिल पर स्कूल पहुंचते थे। इससे जहां लोग स्वस्थ रहते थे, वहीं पर्यावरण प्रदूषण रहित था। लेकिन धीरे-धीरे साइकिल का दौर खत्म हुआ और लोगों ने बाइक, कार व अन्य वाहन पर सफर करना शुरू कर दिया और लोगों को कई बीमारियों ने जकड़ लिया। अब एक बार फिर वही पुराना दौर लौटना शुरू हो गया है।

अगर आप दीर्घायु होना चाहते हैं तो अभी से साइकिलिंग या वॉकिंग करने के बारे में सोचना शुरू कर दीजिए। एक अध्ययन का दावा है कि सीढ़ियां चढ़ने-उतरने, साइकिल चलाने या टहलने से जिंदगी को लंबा करने में मदद मिल सकती है।

फिट रहने का आसान उपाय है साइकिलिंग

शोधकर्ताओं के अनुसार, कार्यस्थल पर लंबे समय तक बैठकर काम करने से मोटापा, हृदय रोग और डायबिटीज के साथ ही कैंसर का भी खतरा बढ़ सकता है। अगर आप फिट और आकर्षक दिखने की चाहत में सटीक एक्‍सरसाइज की तलाश कर रहें हैं तो साइकिलिंग आपके लिए अच्‍छा विकल्‍प साबित हो सकता है। वजन घटाने से लेकर मसल्‍स बनाने तक साइकिलिंग आपके लिए बहुत फायदेमंद होती है। साथ ही यह पूरे शरीर को मजबूत बनाती है। इससे फेफड़े अच्‍छी प्रकार से काम करने लगते हैं, पैरों की मांसपेशियां मजबूत बनती है और मोटापा भी कम होता है। आइए जानें साइकिलिंग के फायदों के बारे में।

सेहतमंद दिल के ल‌िए

साइकिलिंग आपके दिल के लिए बहुत फायदेमंद होती है। रोज साइकिल चलाने से दिल की धड़कनें बढ़ती हैं और रक्त का प्रवाह ठीक होता है। इससे दिल से जुड़े रोगों का खतरा कम होता है।

कम होता है कैंसर का खतरा

साइकिल चलाने से आपका शरीर फिट रहता है क्योंकि साइकिलिंग में पूरे शरीर की एक्सरसाइज हो जाती है। मगर क्या आप जानते हैं कि साइकिलिंग के द्वारा आप कैंसर के खतरे से भी बच सकते हैं। जी हां, हाल में हुई एक रिसर्च में इस बात का पता चला है कि रेगुलर साइकिल चलाने वालों में कैंसर की संभावना 46 प्रतिशत तक कम हो जाती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से साइकिल चलाता है, तो कैंसर का आधा खतरा टल जाता है। इस रिसर्च में लगभग 2 लाख 64 हजार लोगों को शामिल किया गया।

मधुमेह के रोगी ध्यान रखें

मधुमेह के रोगियों को भी साइकिल चलाने से काफी आराम मिलता है। लेकिन मधुमेह के रोगी ध्यान रखें कि साइकिल चलाने से पहले खूब पानी पी लें। टाइप-1 श्रेणी वाले मधुमेह रोगी यदि एक घंटे से ज्यादा साइकिल चलाते हैं तो उन्हें कुछ कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार साथ में रखना चाहिए। दलिया, पास्ता जैसे ऐसे आहार लें, जिनमें कार्बोहाइड्रेट पर्याप्त मात्रा में होता है। कार्बोहाइड्रेट्स के सेवन से शरीर को तुरंत ताकत मिलती है।

मसल्स बनाने में मददगार

साइकिल चलाने के दौरान पैरों की अच्छी कसरत तो होती ही है, साथ ही मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं। मसल्स बनाने के लिए साइकिलिंग पुश अप्स से किसी भी मायने में कम नहीं है।

स्टैमिना बढ़ाएं

रोज साइकिलिंग करने से शरीर के प्रतिरोधी तंत्र को मजबूती मिलती है जिससे स्टैमिना लंबे समय तक बरकरार रहता है। साथ ही, यह रोगों से लड़ने में भी मददगार होता है।

वजन घटाने में मददगार

कई शोधों में अब यह प्रमाणित हो चुका है कि नियमित रूप से साइकिलिंग जैसी एक्‍सरसाइज से शरीर में कैलोरी और फैट कम करने में मदद मिलती है जिससे फिगर स्लिम रहता है और वजन नहीं बढ़ता।

फेफड़ों को मजबूती दें

साइकिलिंग करते समय आप सामान्‍य की तुलना में गहरी सांसें लेते हैं और ज्‍यादा मात्रा में ऑक्‍सीजन ग्रहण करते हैं। जिसके कारण शरीर में रक्‍त संचार भी बढ़ जाता है, साथ ही फेफड़ों के अंदर तेजी से हवा अंदर और बाहर होती है। इससे फेफड़ों की क्षमता में भी सुधार होता है और फेफड़ों में मजबूती आती है।

पानी की पर्याप्त मात्रा है जरूरी

साइकिलिंग के दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी पियें, साइकिलिंग से पहले पानी की बहुत अधिक या बहुत कम मात्रा दोनों ही ठीक नहीं। इसलिए पानी संतुलित मात्रा में पिएं। अगर आप लम्बे साइकिल रेस के लिए जा रहे हैं, तो अपने साथ स्नैक्स रख सकते हैं। साइकिलिंग से 30 मिनट बाद कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन करें। इसके पश्चात आप प्रोटीन युक्त आहार का सेवन कर सकते हैं।

साइकिल चलाएं और बीमारियां दूर भगाएं

  • दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम हो जाता है।
  • इससे धड़कन तेज होती है और ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है।
  • साइकिल चलाने से पैरों की अच्छी एक्सरसाइज हो जाती है और इससे पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं।
  • रोजाना साइकिल चलाने से इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है।
  • नियमित रूप से साइकिल चलाने वालों को अवसाद की शिकायत होने की आशंका बहुत कम होती है।
  • वजन घटाने के लिए साइकिल से बेहतर कोई
  • एक्सरसाइज नहीं हो सकती।
  • फिट और एक्टिव बॉडी रोजाना के कामों को पूरा करने के लिए ही साइकिल चला सकते हैं। ये छोटी सी कोशिश आपको व्यायाम जितना फायदा पहुंचाएगी।

बरेली जिला अस्पताल के वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. एम अग्रवाल बताते हैं कि साइकिलिंग ही एक ऐसी एक्सरसाइज है जिसमें शरीर की हर मसल का मूवमेंट होता है। इससे ओवरऑल फिटनेस हासिल की जा सकती है। इसके साथ ही साइकिलिंग करके डायबिटीज और दिल की बीमारी से भी बचा जा सकता है। साइकिलिंग से चर्बी घटती है और खून का बहाव तेज होता है।

Check Also

2 चम्मच नमक इंसानों के लिए खतरनाक, सच्चाई जान लेंगे तो नहीं करेंगे इस्तेमाल….!!

नमक हाई ब्लडप्रेशर समेत दिल की कई घातक बीमारियों की वजह बन सकता है. नमक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *